Menu

You are here

होम / हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर में वैट प्रशासन के कंप्यूटरीकरण के लिए परियोजना

हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर में वैट प्रशासन के कंप्यूटरीकरण के लिए परियोजना

  • इन दो राज्यों के वैट प्रशासन के कंप्यूटरीकरण के लिए एक परियोजना रुपये की परियोजना की कुल लागत के साथ मंजूरी दी गई है। केन्द्रीय सहायता हिस्सेदारी रुपये है जिसमें से 40.49 करोड़। 25.33 करोड़ रुपए था। शेष राशि इन राज्यों द्वारा प्रदान किया जाता है। जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश के लिए उपक्रम वैट कंप्यूटरीकरण की जिम्मेदारी इन राज्यों के अनुरोध पर राज्यों के वित्त मंत्रियों की अधिकार प्राप्त समिति (ईसी) को सौंपा गया है।
  • परियोजना के बाद ऑनलाइन सेवाओं के प्रावधान की परिकल्पना है: -
  • a. डीलर के सरलीकरण के लिए:

    • वैल्यू एडेड टैक्स (वैट) और केन्द्रीय बिक्री कर (सीएसटी) के तहत ऑनलाइन पंजीकरण अधिनियमों
    • वैट, सीएसटी और प्रफेशन टैक्स रिटर्न की ऑनलाइन फाइलिंग
    • व्यवसाय कर सहित वाणिज्यिक कर ऑनलाइन भुगतान
    • घोषणा पत्र / प्रमाण पत्र संबंधित सीएसटी के मुद्दे के लिए ऑनलाइन आवेदन
    • रास्ता बिल के मुद्दे के लिए ऑनलाइन आवेदन
    • ई-सेवाओं तक पहुँचने के लिए यूजर आईडी तथा पासवर्ड का स्व-सृजन
    • ऑनलाइन व्यापारी का प्रोफ़ाइल
    • कम्प्यूटर एडेड मूल्यांकन
    • सामान्य पोर्टल सेवाओं, आदि
    • वैधानिक रूपों सुरक्षित लॉगिन और डिजिटल प्रमाण पत्र के माध्यम से डाउनलोड के लिए उपलब्ध ऑनलाइन होने की
    • शिकायतों का ऑनलाइन पंजीकरण

    ख. विभाग के प्रशासन के लिए:


    • ऑटो व्यापार डीलरों द्वारा प्रस्तुत आवेदन और जानकारी की पुष्टि करने के लिए नियम
    • ऑटो डीलर जानकारी में परिवर्तन के मामले में संबंधित क्षेत्र के कार्यालय को सचेतक
    • पूरा वापसी विस्तार के साथ संबंध सेक्टर अधिकारी के लिए रिटर्न की जानकारी
    • डीलर द्वारा प्रस्तुत की वापसी के ऑटो जोखिम विश्लेषण
    • ऑटो मिलान / बिक्री की बेमेल / आईटीसी सत्यापन के लिए खरीद के विवरण
    • डीलर का आकलन करने के आकलन अधिकारी के लिए वार्षिक वापसी डेटा के ऑटो पीढ़ी
    • संबंधित अधिकारियों को ऑटो डीलर खातों के सृजन और सुरक्षित पहुँच
    • वापसी राशि पर देय ब्याज की ऑटो गणना
    • एक डीलर और समायोजन की बकाया देनदारियों के ऑटो गणना
    • सुनवाई तारीखों के ऑटो शेड्यूलिंग
    • एमआईएस एक 360 डिग्री दृश्य देने के लिए रिपोर्टिंग
  • रुपये 7.00 करोड़ रुपये की राशि परियोजना गतिविधियों के लिए 31 जनवरी 2011 तक राजस्व विभाग द्वारा चुनाव आयोग को जारी की गई है। केंद्रीय स्तर पर परियोजना निगरानी समितियों के साथ ही राज्य स्तर नियमित आधार पर परियोजना की प्रगति की निगरानी करने के लिए स्थापित किए गए हैं। परियोजना की गतिविधियों वित्तीय वर्ष 2010-11 के अंतिम दो तिमाहियों में तेजी आई है। यह परियोजना के तहत योजना बनाई सेवाओं की सबसे दिसम्बर, 2011 तक वितरित रही शुरू कर देंगे कि उम्मीद है।